khanpuri write

khanpuri write

shayar insta id @khanpuriwrite

https://youtube.com/channel/UCLsvPYPoplNjB_LzvTHRxdA

  • Latest
  • Popular
  • Video

White बड़ी उम्मीद है ऐ इतेफाक तुझसे के वो हो जाएं रूबरू हमसे यूं तो मिले उनसे जमाना हो गया ©khanpuri write

#good_night_images #कविता  White बड़ी उम्मीद है
ऐ इतेफाक तुझसे 
के वो हो जाएं रूबरू हमसे
यूं तो मिले उनसे जमाना हो गया

©khanpuri write

White इस कदर यार मुझे सता ना कोई बात है छुपाई है तो पास बैठ मेरे यार मुझे बता ना ©khanpuri write

#कविता #short_shyari  White इस कदर यार मुझे सता ना
कोई बात है छुपाई है तो पास बैठ मेरे यार मुझे बता ना

©khanpuri write

#short_shyari

12 Love

#Emotional_Shayari #शायरी  White  मैं वक्त पर लौटा के ना लौटा किसी का अब कोई सवाल नहीं
मां अब सच में तेरे बगैर किसी और को मेरा कोई ख्याल नहीं
जब से तू बीमार पड़ी है
क्या बताए खानपुरी के आगे बेरुखी कि दीवार खड़ी है
कुछ दुआएं हैं किसी अपने की जो तू सामने है मुझे लगता है दवाइयों का कोई खास कमाल नहीं
मेरा खुदा से है तेरी इस हालत का किसी और से कोई मलाल नहीं

©khanpuri write

White मैं वक्त पर लौटा के ना लौटा किसी का अब कोई सवाल नहीं मां अब सच में तेरे बगैर किसी और को मेरा कोई ख्याल नहीं जब से तू बीमार पड़ी है क्या बताए खानपुरी के आगे बेरुखी कि दीवार खड़ी है कुछ दुआएं हैं किसी अपने की जो तू सामने है मुझे लगता है दवाइयों का कोई खास कमाल नहीं मेरा खुदास से है तेरी इस हालत का किसी और से कोई मलाल नहीं ©khanpuri write

#Emotional_Shayari #शायरी  White मैं वक्त पर लौटा के ना लौटा किसी का अब कोई सवाल नहीं
मां अब सच में तेरे बगैर किसी और को मेरा कोई ख्याल नहीं
जब से तू बीमार पड़ी है
क्या बताए खानपुरी के आगे बेरुखी कि दीवार खड़ी है
कुछ दुआएं हैं किसी अपने की जो तू सामने है मुझे लगता है दवाइयों का कोई खास कमाल नहीं
मेरा खुदास से है तेरी इस हालत का किसी और से कोई मलाल नहीं

©khanpuri write

मैं समंदर वहीं हूं कभी आगे बढ़ा ही नहीं वो नदी कभी दरिया कभी बांध कभी नहरों की एक का होकर रहने का ख्याल उसके ख्यालों में कभी चढ़ा ही नहीं ©khanpuri write

#कविता #OceanBeach  मैं समंदर वहीं हूं कभी आगे बढ़ा ही नहीं 
वो नदी कभी दरिया कभी बांध कभी नहरों की एक का होकर रहने का ख्याल उसके ख्यालों में कभी चढ़ा ही नहीं

©khanpuri write

#OceanBeach

15 Love

White ना जाने क्यों शहर को गांव के खेत नजर आ रहे हैं देता है दुहाई पेड़ों के काटे जाने पर जैसे जैसे गर्मी के मंजर आ रहे हैं खुद के बंगले आलीशान आंगन में छांव की निशानी नहीं है हमारे तालाबों की गंदगी पर भाषण खुद के घरों में पानी नहीं है ©khanpuri write

#कविता #lonely_quotes  White ना जाने क्यों शहर को गांव के खेत नजर आ रहे हैं
देता है दुहाई पेड़ों के काटे जाने पर जैसे जैसे गर्मी के मंजर आ रहे हैं 
खुद के बंगले आलीशान आंगन में छांव की निशानी नहीं है
हमारे तालाबों की गंदगी पर भाषण खुद के घरों में पानी नहीं है

©khanpuri write
Trending Topic