tags

New ankahe alfaaz Status, Photo, Video

Find the latest Status about ankahe alfaaz from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about ankahe alfaaz.

  • Latest
  • Popular
  • Video
#शायरी #Mere

#Mere Ankahe Alfaz

0 View

White दफन कर Di उनकी मोहब्बत अपने दिल के अंदर Wo जब साथ थे तब भी उन्हें बदनाम नहीं किया , और कुछ कहे ऐसा कोई काम नहीं किया 😂 ©Khushi yadav

#alone_quotes #SAD  White  दफन कर Di उनकी मोहब्बत अपने दिल के अंदर 
Wo जब साथ थे तब भी उन्हें बदनाम नहीं किया , और कुछ कहे ऐसा कोई काम नहीं किया
























😂

©Khushi yadav

#alone_quotes alfaaz

15 Love

 White भूल जाना आसान नहीं होता

बहुत कुछ भूलने के लिए 
बहुत कुछ याद रखना पड़ता है ।

इसलिए 
जब चुनना पड़े
भूल जाने और याद रखने 
में से एक को ।

तो चुन लेना
याद रखना ।।

©Aditya kumar prasad

alfaaz...

333 View

 White अधिक पैसे कमाने वाले पुरुषों को
 अधिक प्रेम मिलता है 
फिर वो परिवार से मिले, 
समाज से या फिर प्रेमिका से !

©Aditya kumar prasad

alfaaz...

486 View

White जाने क्या है उसमें, जो मुझे उस ओर खींच रहा है, मंजिल कहाँ है पता नहीं, फिर भी क्यूँ मैं उस तरफ बढ़ रहा हूं, ना मुझे कुछ मालूम है, ना उसे कुछ खबर, पर अर्से बाद मुझमें कुछ, नया पनप रहा है, मेरी धूल खाती डायरी, और खत्म होती स्याही का पेन , जाने क्या कुछ लिखने को, फिर से मचल रहा है, मुझे नहीं मालूम कि क्या है ये, क्या सही है क्या गलत है, और ना ही मुझे अब कुछ समझना है, पर उससे बात करना, जानें क्यूं इक जरुरत सा लगता है, मैं खुश हूं,कब तक रहूंगा, मैंने उस ख़ुदा पर छोड़ दिया है ©parijat

#कविता #manjil #ankahe #khwab #Road  White जाने क्या है उसमें, 
जो मुझे उस ओर खींच रहा है, 
 मंजिल कहाँ है पता नहीं, 
फिर भी क्यूँ मैं उस तरफ बढ़ रहा हूं, 
ना मुझे कुछ मालूम है, 
ना उसे कुछ खबर, 
पर अर्से बाद मुझमें कुछ, 
नया पनप रहा है, 
मेरी धूल खाती डायरी,
और खत्म होती स्याही का पेन ,
जाने क्या कुछ लिखने को, 
फिर से मचल रहा है,
मुझे नहीं मालूम कि क्या है ये, 
क्या सही है क्या गलत है, 
और ना ही मुझे अब कुछ समझना है, 
पर उससे बात करना, 
जानें क्यूं इक जरुरत सा लगता है, 
मैं खुश हूं,कब तक रहूंगा, 
मैंने उस ख़ुदा पर छोड़ दिया है

©parijat
 White "प्रचार बेकार को दमदार बनाता है ll
 यह चकाचौंध अंधकार में आता है ll

 चिकनी-चुपड़ी बातों की चपेट देकर, 
 प्रचार भोले लोगों को शिकार बनाता है ll

 मूल्य चौगुना करके छूट आधी करते हैं, 
 छूट के नाम पर लूट व्यापार में आता है ll

 हर चीज को भवनाओं से जोड़ता है, 
 प्रचार भावनाओं में बाजार सजाता है ll

 प्रचार का सारा खर्च हमसे ही वसूला जाता है, 
 मंहगाई की मार से 'मध्यमवर्गीय' हार जाता है ll"

©Aditya kumar prasad

alfaaz

288 View

#शायरी #Mere

#Mere Ankahe Alfaz

0 View

White दफन कर Di उनकी मोहब्बत अपने दिल के अंदर Wo जब साथ थे तब भी उन्हें बदनाम नहीं किया , और कुछ कहे ऐसा कोई काम नहीं किया 😂 ©Khushi yadav

#alone_quotes #SAD  White  दफन कर Di उनकी मोहब्बत अपने दिल के अंदर 
Wo जब साथ थे तब भी उन्हें बदनाम नहीं किया , और कुछ कहे ऐसा कोई काम नहीं किया
























😂

©Khushi yadav

#alone_quotes alfaaz

15 Love

 White भूल जाना आसान नहीं होता

बहुत कुछ भूलने के लिए 
बहुत कुछ याद रखना पड़ता है ।

इसलिए 
जब चुनना पड़े
भूल जाने और याद रखने 
में से एक को ।

तो चुन लेना
याद रखना ।।

©Aditya kumar prasad

alfaaz...

333 View

 White अधिक पैसे कमाने वाले पुरुषों को
 अधिक प्रेम मिलता है 
फिर वो परिवार से मिले, 
समाज से या फिर प्रेमिका से !

©Aditya kumar prasad

alfaaz...

486 View

White जाने क्या है उसमें, जो मुझे उस ओर खींच रहा है, मंजिल कहाँ है पता नहीं, फिर भी क्यूँ मैं उस तरफ बढ़ रहा हूं, ना मुझे कुछ मालूम है, ना उसे कुछ खबर, पर अर्से बाद मुझमें कुछ, नया पनप रहा है, मेरी धूल खाती डायरी, और खत्म होती स्याही का पेन , जाने क्या कुछ लिखने को, फिर से मचल रहा है, मुझे नहीं मालूम कि क्या है ये, क्या सही है क्या गलत है, और ना ही मुझे अब कुछ समझना है, पर उससे बात करना, जानें क्यूं इक जरुरत सा लगता है, मैं खुश हूं,कब तक रहूंगा, मैंने उस ख़ुदा पर छोड़ दिया है ©parijat

#कविता #manjil #ankahe #khwab #Road  White जाने क्या है उसमें, 
जो मुझे उस ओर खींच रहा है, 
 मंजिल कहाँ है पता नहीं, 
फिर भी क्यूँ मैं उस तरफ बढ़ रहा हूं, 
ना मुझे कुछ मालूम है, 
ना उसे कुछ खबर, 
पर अर्से बाद मुझमें कुछ, 
नया पनप रहा है, 
मेरी धूल खाती डायरी,
और खत्म होती स्याही का पेन ,
जाने क्या कुछ लिखने को, 
फिर से मचल रहा है,
मुझे नहीं मालूम कि क्या है ये, 
क्या सही है क्या गलत है, 
और ना ही मुझे अब कुछ समझना है, 
पर उससे बात करना, 
जानें क्यूं इक जरुरत सा लगता है, 
मैं खुश हूं,कब तक रहूंगा, 
मैंने उस ख़ुदा पर छोड़ दिया है

©parijat
 White "प्रचार बेकार को दमदार बनाता है ll
 यह चकाचौंध अंधकार में आता है ll

 चिकनी-चुपड़ी बातों की चपेट देकर, 
 प्रचार भोले लोगों को शिकार बनाता है ll

 मूल्य चौगुना करके छूट आधी करते हैं, 
 छूट के नाम पर लूट व्यापार में आता है ll

 हर चीज को भवनाओं से जोड़ता है, 
 प्रचार भावनाओं में बाजार सजाता है ll

 प्रचार का सारा खर्च हमसे ही वसूला जाता है, 
 मंहगाई की मार से 'मध्यमवर्गीय' हार जाता है ll"

©Aditya kumar prasad

alfaaz

288 View

Trending Topic