tags

New poem i wandered lonely as a cloud Status, Photo, Video

Find the latest Status about poem i wandered lonely as a cloud from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about poem i wandered lonely as a cloud.

  • Latest
  • Popular
  • Video

ओ बादल , तू आ जा रे मेरे शहर की छत पर छा जा रे ये सूरज बहुत भभकता है इसको जरा समझा जा रे बहुत तपाया इसने हमको अब जम के बूंद बरसा जा रे सूख गई है धरा ये सारी इसको तनिक भीगा जा रे झुलस गए है नन्हे पौधे इनको जरा हर्षा जा रे रे बादल , तू आ जा रे , मेरे शहर की छत पर छा जा रे ©Dheeraj Kumar Singh

#nojohindi #Nature #Summer #Earth #cloud  ओ बादल , तू  आ जा  रे 

मेरे शहर की छत पर छा जा रे

ये सूरज बहुत भभकता है 

इसको जरा समझा जा रे

बहुत तपाया इसने हमको

अब जम के बूंद बरसा जा रे

सूख गई  है धरा ये सारी

इसको तनिक भीगा जा रे

झुलस गए है नन्हे पौधे

इनको जरा  हर्षा जा रे

रे बादल , तू आ जा रे ,

मेरे शहर की छत पर छा जा रे

©Dheeraj Kumar Singh

White Fruit of darkness tastes sometimes good when it downpours on a barren land....... ©Sheeba

#Motivational #cloud  White Fruit of darkness tastes sometimes good when it downpours on a barren land.......

©Sheeba

#cloud positive_quotes

16 Love

वक्त पर बारिश हो तो यहां खेत गुलजार रहता है नहीं तो कौन यहां किसी के लिए तैयार रहता है मौसम जब भी बेवक्त करवटें बदले यहां मेहनत लाख करे किसान बेकार रहता है सुखी मिट्टी को है सदियों से बादल की तलब जैसे प्यार में कोई आशिक बेकरार रहता है चुनाव की हर किताब में यहां मौसम सुहाना है सपनों में उलझा हुआ कहीं बेरोजगार रहता है चुनाव की फसल बस कटने पर देखिए वादों पे कौन कितना यहां सरकार रहता है दिन का सूरज समझे या रात का तारा उसको एक सोच का फर्क है जो बनके दीवार रहता है ये वक्त का समंदर है राम हर हिसाब से गहरा कोई इस पार रहता है कोई उस पार रहता है *राणा रामशंकर सिंह* उर्फ बंजारा कवि 🖊️....

#कविता #cloud  वक्त पर बारिश हो तो यहां खेत गुलजार रहता है 
नहीं तो कौन यहां किसी के लिए तैयार रहता है 

मौसम जब भी बेवक्त करवटें बदले यहां 
मेहनत लाख करे किसान बेकार रहता है 

सुखी मिट्टी को है सदियों से बादल की तलब 
जैसे प्यार में कोई आशिक बेकरार रहता है

चुनाव की  हर किताब में यहां मौसम सुहाना है 
सपनों में उलझा हुआ कहीं बेरोजगार रहता है 

चुनाव की फसल बस कटने पर देखिए 
वादों पे कौन  कितना यहां सरकार रहता है 

दिन का सूरज समझे या रात का तारा उसको 
एक सोच का फर्क है जो बनके दीवार रहता है 

ये वक्त का समंदर है  राम हर  हिसाब से गहरा 
कोई इस पार रहता है कोई उस पार रहता है

*राणा रामशंकर सिंह* उर्फ बंजारा कवि  🖊️....

#cloud

14 Love

#वीडियो #aroplane #Enjoy #cloud #badal
#SAD

A lonely day 😞

108 View

#real_life  White I dont think we must obsess over wanting to know people,
Thats for those who wasted their time, never knowing themselves.
For what is left in this short life,
Better we cease to know,
And start to live.
The reality, as how it is
Than what it should be...

©Lakshmi Menon

As we are, living as I am #real_life #

90 View

ओ बादल , तू आ जा रे मेरे शहर की छत पर छा जा रे ये सूरज बहुत भभकता है इसको जरा समझा जा रे बहुत तपाया इसने हमको अब जम के बूंद बरसा जा रे सूख गई है धरा ये सारी इसको तनिक भीगा जा रे झुलस गए है नन्हे पौधे इनको जरा हर्षा जा रे रे बादल , तू आ जा रे , मेरे शहर की छत पर छा जा रे ©Dheeraj Kumar Singh

#nojohindi #Nature #Summer #Earth #cloud  ओ बादल , तू  आ जा  रे 

मेरे शहर की छत पर छा जा रे

ये सूरज बहुत भभकता है 

इसको जरा समझा जा रे

बहुत तपाया इसने हमको

अब जम के बूंद बरसा जा रे

सूख गई  है धरा ये सारी

इसको तनिक भीगा जा रे

झुलस गए है नन्हे पौधे

इनको जरा  हर्षा जा रे

रे बादल , तू आ जा रे ,

मेरे शहर की छत पर छा जा रे

©Dheeraj Kumar Singh

White Fruit of darkness tastes sometimes good when it downpours on a barren land....... ©Sheeba

#Motivational #cloud  White Fruit of darkness tastes sometimes good when it downpours on a barren land.......

©Sheeba

#cloud positive_quotes

16 Love

वक्त पर बारिश हो तो यहां खेत गुलजार रहता है नहीं तो कौन यहां किसी के लिए तैयार रहता है मौसम जब भी बेवक्त करवटें बदले यहां मेहनत लाख करे किसान बेकार रहता है सुखी मिट्टी को है सदियों से बादल की तलब जैसे प्यार में कोई आशिक बेकरार रहता है चुनाव की हर किताब में यहां मौसम सुहाना है सपनों में उलझा हुआ कहीं बेरोजगार रहता है चुनाव की फसल बस कटने पर देखिए वादों पे कौन कितना यहां सरकार रहता है दिन का सूरज समझे या रात का तारा उसको एक सोच का फर्क है जो बनके दीवार रहता है ये वक्त का समंदर है राम हर हिसाब से गहरा कोई इस पार रहता है कोई उस पार रहता है *राणा रामशंकर सिंह* उर्फ बंजारा कवि 🖊️....

#कविता #cloud  वक्त पर बारिश हो तो यहां खेत गुलजार रहता है 
नहीं तो कौन यहां किसी के लिए तैयार रहता है 

मौसम जब भी बेवक्त करवटें बदले यहां 
मेहनत लाख करे किसान बेकार रहता है 

सुखी मिट्टी को है सदियों से बादल की तलब 
जैसे प्यार में कोई आशिक बेकरार रहता है

चुनाव की  हर किताब में यहां मौसम सुहाना है 
सपनों में उलझा हुआ कहीं बेरोजगार रहता है 

चुनाव की फसल बस कटने पर देखिए 
वादों पे कौन  कितना यहां सरकार रहता है 

दिन का सूरज समझे या रात का तारा उसको 
एक सोच का फर्क है जो बनके दीवार रहता है 

ये वक्त का समंदर है  राम हर  हिसाब से गहरा 
कोई इस पार रहता है कोई उस पार रहता है

*राणा रामशंकर सिंह* उर्फ बंजारा कवि  🖊️....

#cloud

14 Love

#वीडियो #aroplane #Enjoy #cloud #badal
#SAD

A lonely day 😞

108 View

#real_life  White I dont think we must obsess over wanting to know people,
Thats for those who wasted their time, never knowing themselves.
For what is left in this short life,
Better we cease to know,
And start to live.
The reality, as how it is
Than what it should be...

©Lakshmi Menon

As we are, living as I am #real_life #

90 View

Trending Topic